हिंदी ENGLISH E-Paper Download App Contact us Wednesday | September 23, 2020
40 वर्षीय व्यक्ति ने उठाया खौफनाक कदम, पुल से लगाई छलांग, पढ़े पूरी खबर       हिमाचल के नामी क्षेत्रीय अस्पताल दीन दयाल उपाध्याय (DDU) में 54 वर्षीय कोरोना संक्रमित महिला ने लगाया फंदा, प्रशासन पर लगे लापरवाही के आरोप, पढें पूरी खबर..       हिमाचल में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 129 के पार, अबतक संक्रमित मरीजों का कुल आंकड़ा 12769 पर पहुंचा, पढ़े पूरी खबर..       बुधवार का पंचांग : 23 सितम्बर 2020; ये है आज का शुभमुहूर्त और राहुकाल का समय       बुधवार का राशिफल : इन राशिवालों को बन रहा है शुभयोग, पढ़े अपना राशिफ़ल विस्तार से       डिजिटल दौर में सक्रिय भूमिका निभा रहा प्रदेश सरकार का वेब पोर्टल ‘‘माईगव हिमाचल’’       हरबंस सिंह ब्रसकोन हिमाचल प्रदेश प्रशासनिक सेवा ऑफिसर एसोसिएशन के अध्यक्ष बने       शिमला के मुंडाघाट में हनुमान मन्दिर में मूर्तियां चोरी मामले में दो सुनारों सहित छः गिरफ्तार       कूड़े व पानी के भारी बिलों को माफ करने के मुद्दे पर शिमला नागरिक सभा ने उपायुक्त कार्यालय के बाहर किया धरना प्रदर्शन       आईटीबीपी ईमानदारी और बहादुरी के साथ कर रही है राष्ट्र सेवाः मुख्यमंत्री      

व्यापार

बजट 2020 पेश : जानें, कहां से आता है और कहां जाता है सरकारी रुपया?

February 02, 2020 08:24 AM

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2020 के दशक का पहला बजट पेश किया. इसमें इनकम टैक्स स्लैब में बदलाव सहित कई बड़े एलान किए गए. इतना ही नहीं विभिन्न मंत्रालयों व कार्यो के लिए करोड़ों रुपये का आवंटन किया गया. लेकिन क्या आपको पता है कि सरकार को मिलने वाला हर एक रुपया कहां से आता है और कहां खर्च होता है? रुपये के आने और जाने की कहानी को कुछ यूं समझा जा सकता है.

सरकार को मिलने वाले प्रत्येक एक रुपये में से 20 पैसे उधारी व अन्य देनदारियों से मिलते हैं. 18 पैसे कॉरपोरेशन टैक्स से मिलते हैं. सरकार को मिलने वाले रुपये में 17 पैसे आयकर से हासिल होते हैं. इस रुपये में कस्टम टैक्स का हिस्सा 4 पैसे है. केंद्रीय एक्साइज ड्यूटी इस एक रुपये में 7 पैसे का योगदान देती है. जीएसटी व अन्य टैक्स 18 पैसों का योगदान रुपये में देता है. गैर कर राजस्व से 10 पैसे हासिल होते हैं और गैर उधारी पूंजी प्राप्तियां से 6 पैसे आते हैं.

सरकार का मिलने वाले रुपये की तरह खर्च होने का भी अपना हिसाब है. सरकार के प्रत्येक एक रुपये की आमदनी में 20 पैसे राज्यों को टैक्स में भागीदारी के रूप में दिए जाते हैं. 18 पैसे ब्याज के भगुतान में खर्च हो जाते हैं. 13 पैसे केंद्रीय सेक्टर की स्कीमों में खर्च हो जाते हैं. वित्त आयोग व अन्य हस्तांतरण में 10 पैसे चले जाते हैं.

केंद्रीय सरकार द्वारा प्रायोजित स्कीमों के लिए रुपये में से 9 पैसे रखे जाते हैं. प्रत्येक एक रुपये में से 8 पैसे रक्षा से जुड़े व्यय पर खर्च होते हैं. 6 पैसे सब्सिडी पर खर्च हो जाते हैं. पेंशन पर भी 6 पैसे खर्च होते हैं. इसके अलावा शेष बचे 10 पैसे सरकार के अन्य खर्चो के लिए होते हैं.

यह बजट ऐसे समय आया है जब पिछले 15 साल में अर्थव्यवस्था की विकास दर सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है, बेरोजगारी बढ़ने की दर बीते 45 सालों के सबसे ऊंचे स्तर पर है, आम नागरिक के खर्च करने और खरीदने की क्षमता 40 सालों में सबसे निचले स्तर पर आ गई है. नेशनल स्टैटिस्टिकल ऑफिस के मुताबिक ग्रामीण अर्थव्यवस्था में मांग न्यूनतम स्तर पर चली गई है. रसातल में जाती अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए बीएचईएल, बीपीसीएल, जीएआईएल, एचपीसीएल, आईओसी, एमटीएनएल, एनटीपीसी, ओएनजीसी और सेल जैसी नवरत्न कंपनियों को विनिवेशित कर देने का चौतरफा दबाव है।

 

Have something to say? Post your comment

व्यापार में और

होंडा की कारों पर सितंबर में बंपर 2.50 लाख तक की छूट

399 रुपये के ये शानदार रिचार्ज प्लान्स 56 दिनों तक रोजाना देते हैं इतना डाटा

अच्छा है क्रेडिट स्कोर फिर भी नहीं मिल रहा है लोन, ये हो सकती हैं वजह

अब सबको मिलेगा ई-पासपोर्ट

रिकॉर्ड लेवल से 6,636 रुपये तक गिरा सोना, वायदा बाजार में 50 हजार से नीचे पहुंचा

हीरा कारोबारियों को बड़ी राहत, सरकार से मिल गई 3 महीने की मोहलत

शानदार लुक के साथ MG Hector Plus लॉन्च, 13 अगस्त तक मिलेगी सस्ती!

2015 से नहीं कराया इनकम टैक्स का ये काम? 30 सितंबर तक मौका

FPO का भाव तय होते ही टूटने लगे येस बैंक के शेयर, 24% तक गिरे

रिलांयस इंडस्ट्रीज का मेगा राइट इश्यू आज खुला, जानिए भारत के सबसे बड़े फंड जुटाने वाले इस कदम की महत्वपूर्ण बातें