शिमला के हर कोने से दिखेगी 108 फीट ऊंची भव्य,आकर्षक और नए रूप में हनुमान जी की मूर्ति, रेनोवेशन का काम हुआ पूरा -       मुख्यमंत्री ने कांगड़ा जिले को करोड़ो की विकासात्मक परियोजनाएं की समर्पित       कोरोना से निपटने के बजाये मुख्यमंत्री को मिशन रिपीट की चिंता: राठौर       NPS के संहारे राजनीति कर रहे हैं राजन सुशांत: विनोद ठाकुर       मण्डियोें में पहुंची 8.70 लाख से अधिक सेब की पेटियां       केरल विमान हादसे में 18 लोगों की मौत       शनिवार का पंचांग: 08 अगस्त 2020; जानिए आज का शुभमुहूर्त       शनिवार का राशिफ़ल : 08 अगस्त, 2020; जानिए कैसा रहेगा आपका दिन       कोरोना वायरस : 24 घंटे में हिमाचल मे आए 100 कोरोना पॉजिटिव केस, जानें किस जिले में कितने मामले..       प्रदेश में भाजपा ने फैलाया कोरोना वायरस: राठौर      

पंचांग

आज का पंचांग: 13 फरबरी 2020; जानिए आज का शुभमुहूर्त

February 13, 2020 06:32 AM

हिन्दू पंचांग पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं :- 1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)

पंचांग का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचांग (panchang) का श्रवण करते थे ।

जानिए गुरुवार का पंचांग

*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है । *वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है। * नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है। * योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है । *करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है । इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना, पढ़ना चाहिए ।

गुरुवार का पंचांग

बृहस्पतिवार, 13 फरवरी , 2020

विष्णु पूजन मंत्र :

शांता कारम भुजङ्ग शयनम पद्म नाभं सुरेशम।विश्वाधारं गगनसद्र्श्यं मेघवर्णम शुभांगम। लक्ष्मी कान्तं कमल नयनम योगिभिर्ध्यान नग्म्य्म ।वन्दे विष्णुम भवभयहरं सर्व लोकैकनाथम।।

।। आज का दिन मंगलमय हो ।।

दिन (वार) - गुरुवार के दिन तेल का मर्दन करने से धनहानि होती है । (मुहूर्तगणपति)

गुरुवार के दिन धोबी को वस्त्र धुलने या प्रेस करने नहीं देना चाहिए । गुरुवार को ना तो सर धोना चाहिए, ना शरीर में साबुन लगा कर नहाना चाहिए और ना ही कपडे धोने चाहिए ऐसा करने से घर से लक्ष्मी रुष्ट होकर चली जाती है ।

*विक्रम संवत् 2076 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य *शक संवत - 1941 *अयन - उत्तरायण *ऋतु - शरद ऋतु *मास - फाल्गुन माह *पक्ष - कृष्ण पक्ष

तिथि (Tithi)- पञ्चमी - 20:46 तक तदुपरांत षष्ठी

तिथि का स्वामी - पञ्चमी तिथि के स्वामी सर्पदेव(नाग ) जी है तदुपरांत षष्ठी तिथि के स्वामी कार्तिकेय जी है

पंचमी तिथि के स्वामी नाग देवता हैं। शास्त्रों के अनुसार इस दिन नाग देव की पूजा करने से भय तथा कालसर्प दोष दूर होता है। पंचमी को नाग देवता का पूजन करने से घर में किसी की भी सांप काटने से मृत्यु नहीं होती है और अगर सांप काटने से किसी की मृत्यु हो भी गयी हो तो उसे मुक्ति मिलती है, जातक को निर्भयता प्राप्त होती है । पंचमी तिथि को पूर्णा भी कहते है। इस तिथि में कोई भी नया कार्य शुरू करने से उसमे सफलता मिलने की सम्भावना बहुत बढ़ जाती है वह कार्य बहुत लम्बे समय तक चलते है । लेकिन पौष माह की पंचमी को कोई भी नया कार्य नहीं करना चाहिए । शास्त्रों में पंचमी तिथि को कटहल, बिल्ब, और खटाई खाने को मना किया गया है ।

नक्षत्र (Nakshatra)- हस्त - 09:25 तक तदुपरांत चित्रा

नक्षत्र के देवता, ग्रह स्वामी- हस्त नक्षत्र के देवता रवि है तदुपरांत चित्रा नक्षत्र के देवता विश्वकर्मा है ।

योग(Yog) - शूल - 20:03 तक गण्ड

प्रथम करण : - कौलव - 10:09 तक

द्वितीय करण : - तैतिल - 20:46 तक

गुलिक काल : - बृहस्पतिवार को शुभ गुलिक दिन 9:00 से 10:30 तक ।

दिशाशूल (Dishashool)- बृहस्पतिवार को दक्षिण दिशा एवं अग्निकोण का दिकशूल होता है । यात्रा, कार्यों में सफलता के लिए घर से सरसो के दाने या जीरा खाकर जाएँ ।

राहुकाल (Rahukaal)-दिन - 1:30 से 3:00 तक।

सूर्योदय - प्रातः 07:04

सूर्यास्त - सायं 18:06

विशेष - पंचमी को बिल्व का सेवन नही करना चाहिए ।

मुहूर्त (Muhurt) - पंचमी तिथि समस्त शुभ कार्यों के लिए उत्तम है परंतु इस दिन ऋण कतई नहीं देना चाहिए।

"हे आज की तिथि (तिथि के स्वामी ), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण, आप इस पंचाग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।

दोस्तों यह साईट बिलकुल निशुल्क है। यदि आपको इस साईट से कुछ भी लाभ प्राप्त हुआ हो, आपको इस साईट के कंटेंट पसंद आते हो तो मदद स्वरुप आप इस साईट पर विजिट करते रहे ।

Have something to say? Post your comment

पंचांग में और

शनिवार का पंचांग: 08 अगस्त 2020; जानिए आज का शुभमुहूर्त

शुक्रवार का पंचाग: 07 अगस्त 2020; जानिए आज का शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

गुरुवार का पंचांग: 06 अगस्त 2020; जानिए आज का शुभमुहूर्त

बुधवार का पंचांग: 05 अगस्त 2020; जानिए आज का शुभमुहूर्त

मंगलवार का पंचांग: 04 अगस्त, 2020; जानिए आज का शुभमुहूर्त

सोमवार का पंचांग: पंचांग से जानिए राखी बांधने का सबसे शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

रविवार का पंचांग: 02 अगस्त 2020; जानिए आज का शुभमुहूर्त

शनिवार का पंचांग: 01 अगस्त 2020; जानिए आज का शुभमुहूर्त

शुक्रवार का पंचाग: 31 जुलाई 2020; जानिए आज का शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

गुरु का पंचांग: 30 जुलाई 2020; जानिए आज का शुभमुहूर्त