हाथरस मामले में दलित शोषण मुक्ति मंच ने राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन योगी सरकार की बर्खास्तगी की मांग       शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर कोरोना पॉजिटिव       गुरुवार का पंचांग : 29 अक्तूबर, 2020; ये है आज का शुभमुहूर्त और राहुकाल का समय       आज का राशिफल : इन राशिवालों को रहेगा आज खास दिन, पढ़े अपना राशिफ़ल विस्तार से       शिमला में देर रात होटल में लगी आग, लाखों का नुकसान       प्रदेश में 20 नए औद्योगिक उपक्रम स्थापित करने और कई विस्तार प्रस्तावों को मंजूरी       ऑनलाइन शिक्षा के लिए शिक्षा मंत्री ने किया जिओ टीवी के एलिमेंट्री, हायर और वोकेशनल तीन चैनलों का शुभारम्भ       हिमाचल देवभूमि और वीरभूमि उद्धव ठाकरे का बयान दुर्भाग्यपूर्ण पढ़े हिमाचल का इतिहास : सुरेश कश्यप       इस नम्बर पर वाट्सऐप से करें शिकायत, तुरंत कार्रवाई करेगी शिमला पुलिस, पढ़े पूरी खबर       हिमाचल प्रदेश डाक विभाग करेगा राज्य स्तरीय वर्चुअल फिलेटली प्रदर्शनी का आयोजन, प्रथम स्थान पर आने वाले को मिलेगा ये इनाम      

धार्मिक स्थान

अयोध्या में शुरू हुआ राम मंदिर निर्माण

August 12, 2020 02:39 PM

अयोध्या में भगवान राम के मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है. बुधवार को श्री रामजन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट की ओर से इसकी जानकारी दी गई है. पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में रामलला के दर्शन किए थे और राम मंदिर का भूमि पूजन करते ही नींव रखी थी. अब राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है. ट्रस्ट की ओर से बुधवार को अकाउंट नंबर और अन्य जानकारी साझा की गई है, जिससे लोग दान कर सकेंगे.

रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बुधवार को एक वीडियो जारी किया. उन्होंने कहा कि 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर का भूमि पूजन किया था, अब मंदिर का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है. चंपत राय के मुताबिक, करोड़ों राम भक्त मंदिर निर्माण में योगदान देना चाहते हैं जिसके बाद अब ट्रस्ट की ओर से दान करने की सभी जानकारी दी जा रही है.

Have something to say? Post your comment

धार्मिक स्थान में और

जानिए नवरात्रि में कलश स्थापना का क्या है शुभ मुहूर्त? इन बातों का रखें ध्यान

पर्स में जरूर रखनी चाहिए ये 5 चीजें, कभी नहीं रहेगी जेब खाली

जन्माष्टमी के दिन घर लायें ये चीजें कभी नही होगी धन की कमी

सावन के महीने में इन अचूक उपायों से भोलेनाथ शीघ्र होंगे प्रसन्न, देंगे मनचाहा वरदान

पृथ्वी पर सबसे बड़ा पाप विश्वासघात करना है, पढ़िए स्कंद पुराण में वर्णित ये रोचक कथा

जानें श्रावण मास की कैसे हुई शुरुआत, क्यों भोले नाथ का नाम पड़ा नीलकंठ?

सुखी जीवन चाहते हैं तो हर परिस्थिति में धैर्य बनाए रखें, विचारों की और शरीर की पवित्रता का ध्यान रखें: गरुड़ पुराण

चाणक्य नीति: धर्म की जन्मभूमि कहलाती है "दया"

निर्जला एकादशी व्रत आज, जानें उपवास, पूजा विधि और मुहूर्त के बारे में

जब प्रभु श्री राम ने दिया अपने ही भाई को मृत्यु का दंड, पढ़े विस्तार से