हाथरस मामले में दलित शोषण मुक्ति मंच ने राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन योगी सरकार की बर्खास्तगी की मांग       शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर कोरोना पॉजिटिव       गुरुवार का पंचांग : 29 अक्तूबर, 2020; ये है आज का शुभमुहूर्त और राहुकाल का समय       आज का राशिफल : इन राशिवालों को रहेगा आज खास दिन, पढ़े अपना राशिफ़ल विस्तार से       शिमला में देर रात होटल में लगी आग, लाखों का नुकसान       प्रदेश में 20 नए औद्योगिक उपक्रम स्थापित करने और कई विस्तार प्रस्तावों को मंजूरी       ऑनलाइन शिक्षा के लिए शिक्षा मंत्री ने किया जिओ टीवी के एलिमेंट्री, हायर और वोकेशनल तीन चैनलों का शुभारम्भ       हिमाचल देवभूमि और वीरभूमि उद्धव ठाकरे का बयान दुर्भाग्यपूर्ण पढ़े हिमाचल का इतिहास : सुरेश कश्यप       इस नम्बर पर वाट्सऐप से करें शिकायत, तुरंत कार्रवाई करेगी शिमला पुलिस, पढ़े पूरी खबर       हिमाचल प्रदेश डाक विभाग करेगा राज्य स्तरीय वर्चुअल फिलेटली प्रदर्शनी का आयोजन, प्रथम स्थान पर आने वाले को मिलेगा ये इनाम      

धर्म

पूजा पाठ में हो जाए भूल तो इस मंत्र का जाप कर मांगे भगवान से क्षमा

September 14, 2020 07:39 AM

पूजा में हुई गलतियों के लिए हमें भगवान से क्षमा मांगनी चाहिए जिसके लिए क्षमायाचना मंत्र बोला जाता है। जब हम अपनी गलतियों के लिए भगवान से क्षमा मांगते हैं, तभी पूजा पूरी होती है।

आवाहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम्।

पूजां चैव न जानामि क्षमस्व परमेश्वर॥

मंत्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं जनार्दन।

यत्पूजितं मया देव! परिपूर्ण तदस्तु मे॥

मंत्र का अर्थहे ईश्वर मैं आपका “आवाह्न” अर्थात् आपको बुलाना नहीं जानता हूं न विसर्जनम् अर्थात् न ही आपको विदा करना जानता हूं मुझे आपकी पूजा भी करनी नहीं आती है। कृपा करके मुझे क्षमा करें। न मुझे मंत्र का ज्ञान है न ही क्रिया का, मैं तो आपकी भक्ति करना भी नहीं जानता। यथा संभव पूजा कर रहा हूं, कृपा करके मेरी भूल को क्षमा कर दें और पूजा को पूर्णता प्रदान करें। मैं भक्त हूं मुझसे गलती हो सकती है, हे ईश्वर मुझे क्षमा कर दें। मेरे अहंकार को दूर कर दें। मैं आपकी शरण में हूं।

Have something to say? Post your comment

धर्म में और

इन उपायों से घर के वास्तु दोषों को कर सकते हैं दूर

जाने करवा चौथ कब है? जानें व्रत का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Chanakya Niti: इन कामों को करने से नाराज होती हैं लक्ष्मी, छोड़ देती हैं घर

जानिए कुंडली में बृहस्पति की स्थिति आपके करियर के बारे में क्या कहती है?

जगन्नाथ पुरी मंदिर से जुड़ी वो बातें जो सैकड़ों साल से बनी हुई हैं रहस्य!

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर कभी न करें ये काम

सावन के महीने में शिवलिंग पर रोज चढ़ाये बिल पत्र, जानिए बिलपत्र को क्या दोबारा चढ़ाया जा सकता है?

विश्व विख्यात शक्तिपीठ आदिशक्ति जगजननी का पावन धाम श्री नैना देवी, माँ के दर्शन मात्र से पूरी होती हैं हर मनोकामनाएं..

हे माँ ! कोरोना के कहर से रक्षा करो, इस विश्वविख्यात मन्दिर में कोरोना के कहर से बचने के लिए ही रहा है हवन

बाडुबाड़ा देव की यात्रा 16 मार्च से शुरू