राज्यपाल ने असामाजिक तत्वों से सावधान रहने का आह्वान किया       हिमाचल: पहाड़ों ने ओढ़ी बर्फ की सफेद चादर, अटल टनल में उमड़े सैलानी       कलयुगी बेटे ने बाप को उतारा मौत के घाट       इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर कांग्रेस का सत्याग्रह एवं उपवास आंदोलन, कृषि सुधार कानून का किया विरोध       सरदार वल्लभभाई पटेल की 145 जयन्ती पर रिज मैदान पर मनाया गया राज्यस्तरीय समारोह , मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय एकता की दिलाई शपथ       आज का पंचांग 31 अक्टूबर : राहुकाल के साथ भद्रा भी, जानें आज का शुभ मुहूर्त       राशिफ़ल: 31अक्टूबर 2020, देखिए अपना आज का राशिफ़ल       16406 लोगों ने कौशल रजिस्टर पोर्टल पर कराया पंजीकरण, इतनो को मिला रोजगार       राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने महर्षि वाल्मीकि जयंती पर लोगों को दी बधाई       हवाई अड्डों के विस्तार से हिमाचल में पर्यटन क्षेत्र को मिलेगा नया आयामः मुख्यमंत्री      

हिमाचल | शिमला

श्रम कानूनों में बदलाव व पब्लिक सेक्टर को बेचने के खिलाफ सीटू का हल्ला बोल

September 23, 2020 06:22 PM

शिमला: ट्रेड यूनियनों के संयुक्त मंच के आह्वान पर हिमाचल प्रदेश के ग्यारह जिलों के जिला व ब्लॉक मुख्यालयों पर मजदूरों द्वारा जोरदार प्रदर्शन किये गए। इसमें हज़ारों मजदूर शामिल हुए। मजदूर संगठन सीटू के नेतृत्व में शिमला के डीसी ऑफिस पर जोरदार प्रदर्शन किया गया।

इसके बाद डीसी शिमला के माध्यम से प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजा गया। जिसमें मांग की गई कि श्रम कानूनों में मजदूर विरोधी संशोधनों पर रोक लगाई जाए। श्रम कानून के बदले चार लेबर कोडों की प्रक्रिया पर रोक लगाई जाए। सार्वजनिक क्षेत्र के निजीकरण पर रोक लगाई जाए। पचास वर्ष की आयु अथवा तीस वर्ष का कार्यकाल पूर्ण करने वाले नियमित सरकारी कर्मचारियों की छंटनी व जबरन रिटायरमेंट पर रोक लगाई जाए।

 प्रदर्शन में सीटू महासचिव प्रेम गौतम ने कहा कि भारत सरकार व हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा श्रम कानूनों में मजदूर विरोधी संशोधन किये जा रहे हैं। श्रम कानूनों में किये गए ये बदलाव पूर्णतः मजदूर विरोधी हैं। इन बदलावों से भारत व हिमाचल प्रदेश के करोड़ों मजदूरों पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। इनसे देश के मजदूर वर्ग का लगभग तिहत्तर प्रतिशत हिस्सा श्रम कानूनों के दायरे से बाहर हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि श्रम कानूनों को खत्म करके केवल चार लेबर कोड़ों में तब्दील किया जाएगा जिससे नियोक्ताओं को फायदा होगा व मजदूरों का शोषण और ज़्यादा होगा।

उन्होंने कहा कि देश के सभी सार्वजनिक क्षेत्रों को एक-एक करके बेचा जा रहा है जोकि बेहद चिंतनीय विषय है। इस प्रक्रिया को निजीकरण के ज़रिए पूर्ण किया जा रहा है। सार्वजनिक क्षेत्र इस देश की बुनियाद है व इसे बेचा जा रहा है। इस देश के निर्माण में सरकारी कर्मचारियों की बेहद अहम भूमिका है।

अब सरकार ने पचास साल की आयु पूर्ण करने अथवा तीस वर्ष का कार्यकाल पूर्ण करने पर नियमित सरकारी कर्मचारियों की छंटनी व जबरन रिटायरमेंट का फरमान जारी कर दिया है जोकि सीधी तानाशाही है।

 

Have something to say? Post your comment

हिमाचल में और

राज्यपाल ने असामाजिक तत्वों से सावधान रहने का आह्वान किया

हिमाचल: पहाड़ों ने ओढ़ी बर्फ की सफेद चादर, अटल टनल में उमड़े सैलानी

कलयुगी बेटे ने बाप को उतारा मौत के घाट

इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर कांग्रेस का सत्याग्रह एवं उपवास आंदोलन, कृषि सुधार कानून का किया विरोध

सरदार वल्लभभाई पटेल की 145 जयन्ती पर रिज मैदान पर मनाया गया राज्यस्तरीय समारोह , मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय एकता की दिलाई शपथ

16406 लोगों ने कौशल रजिस्टर पोर्टल पर कराया पंजीकरण, इतनो को मिला रोजगार

राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने महर्षि वाल्मीकि जयंती पर लोगों को दी बधाई

हवाई अड्डों के विस्तार से हिमाचल में पर्यटन क्षेत्र को मिलेगा नया आयामः मुख्यमंत्री

राहुल गांधी पहुंचे शिमला, छराबड़ा में बहन प्रियंका के घर दो दिन रुकेंगे

सुन्दरनगर विधानसभा क्षेत्र के लिए मुख्यमंत्री ने किए करोड़ों रुपये की विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं के शिलान्यास और लोकार्पण