पंचायती राज संस्थाओं के प्रथम चरण का मतदान शांतिपूर्ण संपन्न, इस पंचायत में हुआ सर्वाधिक 94 फीसदी मतदान       पंचायत चुनाव के प्रथम चरण में 1228 पंचायतों में मतदान शुरू, युवा मतदाता भी बढ़ चढ़ कर करे रहे हैं मतदान       शिमला में समाने आया तीन तलाक का मामला,पति ने तीन तलाक देकर महिला को निकाला घर के बाहर       मुख्य सचिव ने स्वर्ण जयंती समारोह संबंधी समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की       हिमाचल में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने की कोविड टीकाकरण की शुरुआत, डॉ जनक राज को लगा पहला टिका       आदित्य नेगी ने कुफरी में पार्किंग स्थलों एवं भवन का किया निरीक्षण, दिए आवश्यक दिशानिर्देश       17 जनवरी को प्रथम चरण के चुनाव में 138 ग्राम पंचायतों के लिए मतदान, मजबूत लोकतंत्र के लिए करें मतदान: उपायुक्त       कुफरी में स्थापित डॉप्लर राडार का हर्षवर्धन ने किया लोकार्पण, सौ किलोमीटर तक के सभी दिशाओं के मौसम की देगा जानकारी       राज्यपाल ने राम मंदिर के लिए 1.83 लाख रुपये का अंशदान किया       एकल खिड़की अनुश्रवण एवं स्वीकृति प्राधिकरण ने 509.86 करोड़ रुपये की 13 परियोजना प्रस्तावों को मंजूरी दी      

धार्मिक स्थान

पर्स में जरूर रखनी चाहिए ये 5 चीजें, कभी नहीं रहेगी जेब खाली

October 14, 2020 08:27 AM

पर्स में अपने गुरु या देवी देवताओं के चित्र न रखें. अपने रिपवार का चित्र रख सकते हैं. चाहें तो "ॐ" या स्वस्तिक का "प्रतीक" रख सकते हैं। जो भी चित्र या प्रतीक रखें, वो कटा फटा न हो।

पर्स में रुपए और पैसे ठीक से रखें। मोड़कर या ठूसकर रुपए न रखें। सिक्कों को नोट से अलग रखें। अगर सही तरीके से पैसे रखेंगे तो धन का अपव्यय नहीं होगा।

अपने पर्स में एक सोने या पीतल का वर्ग रखें। इसे गंगाजल से धोकर बृहस्पतिवार को रखें। हर महीने में इसे शुद्ध करते रहें। इससे आपके पर्स में स्थायी धन बना रहेगा।

पर्स में बहुत थोड़े से कागज ही रखें। बहुत ज्यादा कागज रखने से धन का अपव्यय होता है। साथ ही पर्स के गायब हो जाने का खतरा रहता है।

अपने पर्स में अपनी राशि की वस्तुएं जरूर रखें। जो चीज आपकी राशि से सम्बंधित है उसका छोटा सा प्रतीक रखें। आप अपनी राशि से सम्बंधित रंग की भी कोई वस्तु रख सकते हैं। इससे धन की प्राप्ति सरलता से होती रहेगी

Have something to say? Post your comment

धार्मिक स्थान में और

जानिए नवरात्रि में कलश स्थापना का क्या है शुभ मुहूर्त? इन बातों का रखें ध्यान

अयोध्या में शुरू हुआ राम मंदिर निर्माण

जन्माष्टमी के दिन घर लायें ये चीजें कभी नही होगी धन की कमी

सावन के महीने में इन अचूक उपायों से भोलेनाथ शीघ्र होंगे प्रसन्न, देंगे मनचाहा वरदान

पृथ्वी पर सबसे बड़ा पाप विश्वासघात करना है, पढ़िए स्कंद पुराण में वर्णित ये रोचक कथा

जानें श्रावण मास की कैसे हुई शुरुआत, क्यों भोले नाथ का नाम पड़ा नीलकंठ?

सुखी जीवन चाहते हैं तो हर परिस्थिति में धैर्य बनाए रखें, विचारों की और शरीर की पवित्रता का ध्यान रखें: गरुड़ पुराण

चाणक्य नीति: धर्म की जन्मभूमि कहलाती है "दया"

निर्जला एकादशी व्रत आज, जानें उपवास, पूजा विधि और मुहूर्त के बारे में

जब प्रभु श्री राम ने दिया अपने ही भाई को मृत्यु का दंड, पढ़े विस्तार से