पंचायती राज संस्थाओं के प्रथम चरण का मतदान शांतिपूर्ण संपन्न, इस पंचायत में हुआ सर्वाधिक 94 फीसदी मतदान       पंचायत चुनाव के प्रथम चरण में 1228 पंचायतों में मतदान शुरू, युवा मतदाता भी बढ़ चढ़ कर करे रहे हैं मतदान       शिमला में समाने आया तीन तलाक का मामला,पति ने तीन तलाक देकर महिला को निकाला घर के बाहर       मुख्य सचिव ने स्वर्ण जयंती समारोह संबंधी समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की       हिमाचल में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने की कोविड टीकाकरण की शुरुआत, डॉ जनक राज को लगा पहला टिका       आदित्य नेगी ने कुफरी में पार्किंग स्थलों एवं भवन का किया निरीक्षण, दिए आवश्यक दिशानिर्देश       17 जनवरी को प्रथम चरण के चुनाव में 138 ग्राम पंचायतों के लिए मतदान, मजबूत लोकतंत्र के लिए करें मतदान: उपायुक्त       कुफरी में स्थापित डॉप्लर राडार का हर्षवर्धन ने किया लोकार्पण, सौ किलोमीटर तक के सभी दिशाओं के मौसम की देगा जानकारी       राज्यपाल ने राम मंदिर के लिए 1.83 लाख रुपये का अंशदान किया       एकल खिड़की अनुश्रवण एवं स्वीकृति प्राधिकरण ने 509.86 करोड़ रुपये की 13 परियोजना प्रस्तावों को मंजूरी दी      

धर्म | शिमला

आज है गोवर्धन पूजा, जानिए कैसे शुरू हुई यह परंपरा, ये है शुभ मुहूर्त व पूजा विधि

November 15, 2020 09:54 AM

हर साल कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को गोवर्धन पूजा व अन्नकूट का पर्व मनाया जाता है। 15 नवंबर 2020 दिन रविवार को गोवर्धन पूजा या अन्नकूट का त्योहार है। इसमें महिलाएं गोबर से भगवान गोवर्धन को बनाती हैं। तथा इनकी पूजा करती हैं इसके साथ गायों की भी पूजा करती है।

इस दिन मंदिरों में अन्नकूट महोत्सव मनाया जाता है। भगवान कृष्ण के प्रतीक रूप में गोवर्धन को 56 भोग से अनेकों प्रकार के भोजन से भोग लगाया जाता है और इसका प्रसाद वितरण किया जाता है।

तिथि: 15 नवंबर 2020

गोवर्द्धन पूजा मुहूर्त: 15 नवंबर दोपहर 03:19 बजे से शाम 05:27 बजे तक।

अवधि: 02 घंटे 09 मिनट

गोवर्धन पूजा विधि: ब्रह्म मुहूर्त में उठकर शरीर पर तेल लगाने के बाद स्‍नान करके  स्‍वच्‍छ वस्‍त्र धारण करें। उसके बाद मुख्य गेट पर गाय के गोबर से गोवर्धन पर्वत का निर्माण करें. इसे पौधों, पेड़ की शाखाओं और फूलों से सजाएं और पर्वत पर रोली, कुमकुम, अक्षत और फूल अर्पित कर पूजन करें. इसके बाद घर की गायों को नहलाकर उनका श्रृंगार करें।

फिर उन्‍हें रोली, कुमकुम, अक्षत और फूल अर्पित करें. उनका भोग लगाएं। उसके बाद गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा करें। जिन गायों की पूजा किया गया था उन्हीं गायों की मदद से शाम के समय गोवर्धन पर्वत का मर्दन करवाएं इस गोबर से सारे घर की लिपाई करे।

गोवर्धन की पूजा की ये है परंपरा:  ऐसी मान्यता है कि भगवान श्रीकृष्ण के अवतार के बाद द्वापर युग से अन्नकूट और गोवर्धन पूजा की शुरुआत हुई। पारंपरिक मान्यताओं  के मुताबिक़ एक बार वर्षा के देवता इंद्र भगवान को अभिमान हुआ और इसी अभिमान में सात दिन तक लगातार बारिश करने लगे। इससे गोकुल की जनता में तबाही आनी शुरू हो गई। तब भगवान श्री कृष्ण ने उनके अहंकार को चूर-चूर करने और जनता की रक्षा के लिए गोवर्धन पर्वत को ही अंगुली पर उठा लिया।

गोकुल की सभी पशु-पक्षीएवं मानव जन उस पर्वत के नीचे आ गये। इससे गोकुल वासियों को कोई नुकसान हुआ। जब इसकी जानकारी इंद्र को हुई तो इंद्र ने भगवान कृष्ण से क्षमायाचना किया। कहा जाता है कि उसके बाद भगवान कृष्ण ने गोकुल वासियों से कहा कि अप सब लोग गोवर्धन की ही पूजा किया करें। उसी दिन के बाद से गोवर्धन की पूजा शुरू हो गई।

 

Have something to say? Post your comment

धर्म में और

जानिए छठ पूजा का शुभ महूर्त

सूर्य का राशि परिवर्तन चमका देगा इन 5 राशि वालों का भाग्य

धनतेरस 2020 : आज या कल कब मनाया जाएगा धनतेरस का पर्व, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त व विधि

रविवार के दिन ये उपाय लाएंगे जीवन में खुशहाली

करवा चौथ: सोलह श्रृंगार से मिलता है करवा माता का आशीर्वाद

इन उपायों से घर के वास्तु दोषों को कर सकते हैं दूर

जाने करवा चौथ कब है? जानें व्रत का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

पूजा पाठ में हो जाए भूल तो इस मंत्र का जाप कर मांगे भगवान से क्षमा

Chanakya Niti: इन कामों को करने से नाराज होती हैं लक्ष्मी, छोड़ देती हैं घर

जानिए कुंडली में बृहस्पति की स्थिति आपके करियर के बारे में क्या कहती है?