पंचायती राज संस्थाओं के प्रथम चरण का मतदान शांतिपूर्ण संपन्न, इस पंचायत में हुआ सर्वाधिक 94 फीसदी मतदान       पंचायत चुनाव के प्रथम चरण में 1228 पंचायतों में मतदान शुरू, युवा मतदाता भी बढ़ चढ़ कर करे रहे हैं मतदान       शिमला में समाने आया तीन तलाक का मामला,पति ने तीन तलाक देकर महिला को निकाला घर के बाहर       मुख्य सचिव ने स्वर्ण जयंती समारोह संबंधी समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की       हिमाचल में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने की कोविड टीकाकरण की शुरुआत, डॉ जनक राज को लगा पहला टिका       आदित्य नेगी ने कुफरी में पार्किंग स्थलों एवं भवन का किया निरीक्षण, दिए आवश्यक दिशानिर्देश       17 जनवरी को प्रथम चरण के चुनाव में 138 ग्राम पंचायतों के लिए मतदान, मजबूत लोकतंत्र के लिए करें मतदान: उपायुक्त       कुफरी में स्थापित डॉप्लर राडार का हर्षवर्धन ने किया लोकार्पण, सौ किलोमीटर तक के सभी दिशाओं के मौसम की देगा जानकारी       राज्यपाल ने राम मंदिर के लिए 1.83 लाख रुपये का अंशदान किया       एकल खिड़की अनुश्रवण एवं स्वीकृति प्राधिकरण ने 509.86 करोड़ रुपये की 13 परियोजना प्रस्तावों को मंजूरी दी      

धर्म | हमीरपुर

जानिए छठ पूजा का शुभ महूर्त

November 20, 2020 10:25 AM

आज (20 नवंबर) को डूबते सूरज को अर्घ्य दिया जाएगा। व्रती महिलाएं आज नदियों और तालाबों में खड़े होकर डूबते सूरज को अर्घ्य देंगी। वहीं, 21 नवंबर को उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ छठ पूजा सम्पन्न होगी। 

 जानकारी के लिए बता दें कि महापर्व के दूसरे दिन व्रती महिलाएं दिन भर बिना पानी ग्रहण किए बिना उपवास रखती हैं। इसके बाद सूर्यास्त होने पर पूजा करती हैं। दूध और गुड़ से बनी खीर का भोग लगाने के बाद वे वही खाती हैं और चांद के नज़र आने तक ही पानी पीती हैं। इसके बाद से उनका करीब 36 घंटे का निर्जला व्रत शुरू हो जाता है।

तीसरे-चौथे दिन दिया जाता है भगवान भास्कर को अर्घ्य 

आस्था के महापर्व छठ के तीसरे दिन व्रती महिलाएं डूबते हुए सूर्य को नदी और तालाब में खड़े होकर पहला अर्घ्य देती हैं। व्रती महिलाएं डूबते हुए सूर्य को फल और कंदमूल से अर्घ्य देती हैं। महापर्व के चौथे और अंतिम दिन फिर से नदियों और तालाबों में जाकर व्रती महिलाएं सूर्य को अर्घ्य देती हैं। भगवान भास्कर को दूसरा अर्घ्य अर्पित करने के बाद ही व्रती महिलाओं का 36 घंटे का निर्जला व्रत समाप्त होता है।

जानिए छठ पूजा का शुभ मुहूर्त 

शुक्रवार 20 नवंबर को सूर्योदय: 06:48 बजे और सूर्यास्त: 05:26 बजे होगा। ऐसे में व्रती महिलाएं सूर्यास्त होने से पहले भगवान सूर्य को अर्घ्य दे सकती हैं। वहीं, शनिवार 21 नवंबर को सूर्योदय सुबह 6:45 बजे होगा। वव्रत करने वाली महिलाएं भगवान भास्कर को दूसरा अर्घ्य इससे पहले दे सकती है।

 

Have something to say? Post your comment

धर्म में और

सूर्य का राशि परिवर्तन चमका देगा इन 5 राशि वालों का भाग्य

आज है गोवर्धन पूजा, जानिए कैसे शुरू हुई यह परंपरा, ये है शुभ मुहूर्त व पूजा विधि

धनतेरस 2020 : आज या कल कब मनाया जाएगा धनतेरस का पर्व, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त व विधि

रविवार के दिन ये उपाय लाएंगे जीवन में खुशहाली

करवा चौथ: सोलह श्रृंगार से मिलता है करवा माता का आशीर्वाद

इन उपायों से घर के वास्तु दोषों को कर सकते हैं दूर

जाने करवा चौथ कब है? जानें व्रत का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

पूजा पाठ में हो जाए भूल तो इस मंत्र का जाप कर मांगे भगवान से क्षमा

Chanakya Niti: इन कामों को करने से नाराज होती हैं लक्ष्मी, छोड़ देती हैं घर

जानिए कुंडली में बृहस्पति की स्थिति आपके करियर के बारे में क्या कहती है?