महंगाई की मार : हिमाचल में सपनों का घर बनाना भी हुआ मुश्किल, सीमेंट के दाम बढ़े, पढ़े पूरी खबर..       कोटखाई में लोन के नाम पर ठगी के मामले में अपराधी को बिहार से गिरफ्तार..       108 ओर 102 एम्बुलेंस के कर्मी मिले सीएम से, बोले- नई कंपनी कर रही मनमर्जी से भर्तियां, 11 साल पुराने कर्मचारी निकाले नौकरी से बाहर..       108 ओर 102 एम्बुलेंस कर्मियों के पक्ष में उतरे नेता प्रतिपक्ष , सरकार को किसी भी कर्मी को न निकालने की दी चेतावनी       हिमाचल कांग्रेस मे नही कोई गुटबाजी, एकजुट होकर आगामी चुनाव लड़ेगी पार्टी : राठौर       हिमाचल : आउटसोर्स कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, ठोस नीति बनाकर रेगुलर करने की तैयारी में सरकार, पढ़े पूरी खबर..       मुख्यमंत्री ने काजा में नौवीं राष्ट्रीय महिला आईस हॉकी चैंपियनशिप का शुभारंभ किया       कोरोना अपडेट : हिमाचल में 71 पुलिस जवान, मंत्री, BJP अध्यक्ष समेत 1975 कोरोना पॉजिटिव, पढ़े पूरी खबर..       भाजपा ने चलाया डिजीटल फंड कलेक्शन अभियान, नमो एप के जरिए देश भर मे माइक्रो फंड किया जा रहा एकत्र..       16 जनवरी को होगा 9 वीं राष्ट्रीय महिला आईस हॉकी चैंपियनशिप 2022 का शुभारंभ, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर करेंगे बतौर मुख्यातिथि शिरकत, पढ़े पूरी खबर..      

धर्म/संस्कृति

"शिकारी देवी" हिमाचल में एक अनोखा मंद‍िर: जहां न ट‍िक पाती है छत, न ऊपर से उड़ पाते पंछी , जानिए माँ शिकारी देवी का इतिहास..

January 11, 2022 12:13 AM
जय माता दी। जय माँ माँ शिकारी देवी ।

मंडी: (हिमदर्शन समाचार); देवभूमि के कई मंदिर आज भी कई रहस्यों से भरे पड़े हैं। इन मंदिरों से जुड़ी देव आस्था की बातें हर किसी को हैरान कर देती हैं। हालांकि, इसके वैज्ञानिक पहलू भी हैं लेकिन देव आस्था इन वैज्ञानिक पहलुओं पर हावी रहती है। ऐसे ही मंदिरों में सराज घाटी की शिकारी देवी मां का मंदिर भी एक है। सर्दियों के मौसम में यहां पर छह से सात फीट तक बर्फ गिरती है लेकिन यह भारी बर्फ भी माता के छत रहित मंदिर की मूर्तियों पर नहीं टिक पाती है और न ही इस मंदिर के ऊपर छत टिक पाती है।

मान्यता है कि यहां पर आने वाले हर श्रद्धालुओं की मनोकामना पूरी होती है। माता का यह स्थान सराज क्षेत्र में ग्यारह हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है। मां शिकारी मंदिर के पुजारी काहन सिंह ने कहा कि मूर्तियों पर बर्फ नहीं जमती। इसे दैवीय चमत्कार के रूप में देखा जाता है।

शिकारी माता का यह मंदिर मंडी में एकमात्र एक ऐसा मंदिर है, जिसकी छत नहीं है। यहां पर देवी खुले आसमान के नीचे प्रतिष्ठित है। मंदिर में केवल दीवारों पर ही मूर्तियां स्थापित हैं। ऐसी मान्यता है कि देवी छत डालकर मंदिर के भीतर रहना पसंद नहीं करतीं। देव आस्था से जुड़े लोगों का कहना है कि कई बार मंदिर में छत डालने की कोशिश की गई लेकिन माता के अनुसार आज्ञा नहीं दी गई है।

शिकारी देवी की प्रतिमाएं पत्थरों की एक मचान पर स्थापित हैं। शिकारी माता को योगिनी माता भी कहा जाता है। माता की नवदुर्गा मूर्ति, चामुंडा, कमरूनाग और परशुराम की मूर्तियां भी यहां पर स्थापित की गई हैं। नवरात्रों में यहां पर विशेष मेले लगते हैं। मंडी जिले का सर्वोच्च शिखर होने के नाते इसे मंडी का क्राउन भी कहा जाता है।

मान्यता है कि मार्कंडेय ऋषि ने यहां सालों तक तपस्या की थी और उनकी तपस्या से खुश होकर यहां मां दुर्गा शक्ति रूप में स्थापित हुईं। कुछ समय के बाद पांडवों ने अज्ञातवास के दौरान मंदिर का निर्माण किया। पांडवों ने यहां तपस्या कर मां दुर्गा को प्रसन्न किया और पांडवों को कौरवों के खिलाफ युद्ध में जीत का आशीर्वाद दिया।

इस दौरान यहां मंदिर का निर्माण तो किया गया, मगर पूरा मंदिर नहीं बन पाया। मां की मूर्ति स्थापित करने के बाद पांडव यहां से चले गए। यहां हर साल सर्दियों में बर्फ तो खूब गिरती है, मगर मूर्तियों के ऊपर कभी भी बर्फ नहीं टिकती। कहा जाता है कि मंदिर की छत बनाने का काम कई बार शुरू किया गया, लेकिन हर बार कोशिश नाकाम रही।

हर साल गर्मियों में यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। मंदिर तक पहुंचने का रास्ता बेहद सुंदर है। चारों तरफ हरियाली दिखती है।

एक कथा प्रचलित है कि पांडवों को एक औरत ने आगाह किया था कि कौरवों के साथ चौसर न खेलें। लेकिन, होनी को टाला नहीं जा सका और चौसर खेलने के कारण पांडवों को अपना राजपाट छोड़कर निर्वासित होना पड़ा। वनवास के दौरान पांडव इस क्षेत्र में आये। एक दिन अर्जुन एवं अन्य भाइयों ने एक सुंदर मृग देखा तो उसका शिकार करना चाहा। काफी पीछा करने के बाद भी वह मृग उनके हाथ नहीं आया।

पांडव चर्चा करने लगे कि वह मृग कहीं मायावी तो नहीं था। तभी आकाशवाणी हुई कि मैं इस पर्वत पर वास करने वाली शक्ति हूं और मैंने पहले भी तुम्हें चौसर खेलते समय सावधान किया था। इस पर पांडवों ने उनसे क्षमा प्रार्थना की, तो देवी ने उन्हें बताया कि मैं इस पर्वत पर नवदुर्गा के रूप में विराजमान हूं और यदि तुम मेरी प्रतिमा निकालकर उसकी स्थापना करोगे तो अपना राज्य पुन: पा जाओगे। पांडवों ने ऐसा ही किया। उन्होंने नवदुर्गा की प्रतिमा खोजकर उसे स्थापित किया। चूंकि माता मायावी मृग के शिकार के रूप में मिली थी, इसलिए मंदिर का नाम शिकारी देवी प्रचलित हुआ।

Have something to say? Post your comment

धर्म/संस्कृति में और

यहां मां की एक झलक से दूर होती है हर दुःख-तकलीफ, जानिए मां ब्रजेश्वरी मंदिर की अद्भुत कथा और इतिहास

शिमला की ऊंची पहाड़ी पर है माँ तारा देवी मन्दिर, यहाँ आने वाले की हर मनोकामना होती है पूरी, जाने तारा देवी मंदिर का इतिहास -

भगवान शनि देव है न्याय और कर्मों का देवता : जानिए शनिवार व्रत कथा : इन्होंने किया था पहली बार शनिवार का व्रत, ऐसी है शनिदेव की महिमा

माँ वैष्णो देवी : जानें क्या है माता वैष्णो देवी की कथा, कैसे मां का भवन बना लाखों भक्तों की उम्मीद

जय शनिमहाराज : शनि के प्रकोप से बचने के लिए बेहद खास है 25 दिसंबर का दिन, इस उपाय से जीवन में आ सकती है खुशहाली..

शिमला काली बाड़ी मंदिर में विराजमान हैं देवी श्यामला, इन्हीं के नाम पर हुआ शिमला का नामकरण

हिमाचल: "छोटी काशी" में व्यास नदी के तट पर है ऐतिहासिक पंचवक्त्र महादेव मंदिर, स्थापित है पंचमुखी प्रतिमा

माँ ज्वाला देवी जी का अद्भुत रहस्य, यहाँ बिना तेल-बाती के जलती हैं अखंड ज्योतियां, अकबर हुआ था नतमस्तक, जानिए माता ज्वाला की 9 ज्योतियों से जुड़ा राज़

विख्यात स्थान ज्वाला जी मे बिना तेल-बाती के जलती हैं अखंड ज्योतियां, अकबर हुआ था नतमस्तक, जानिए माता ज्वाला की 9 ज्योतियों से जुड़ा राज़

गुरु नानक जयंती आज, जानिए उनके जीवन संदेश, जो दिखाते हैं जीवन जीने की सही राह..