महंगाई की मार : हिमाचल में सपनों का घर बनाना भी हुआ मुश्किल, सीमेंट के दाम बढ़े, पढ़े पूरी खबर..       कोटखाई में लोन के नाम पर ठगी के मामले में अपराधी को बिहार से गिरफ्तार..       108 ओर 102 एम्बुलेंस के कर्मी मिले सीएम से, बोले- नई कंपनी कर रही मनमर्जी से भर्तियां, 11 साल पुराने कर्मचारी निकाले नौकरी से बाहर..       108 ओर 102 एम्बुलेंस कर्मियों के पक्ष में उतरे नेता प्रतिपक्ष , सरकार को किसी भी कर्मी को न निकालने की दी चेतावनी       हिमाचल कांग्रेस मे नही कोई गुटबाजी, एकजुट होकर आगामी चुनाव लड़ेगी पार्टी : राठौर       हिमाचल : आउटसोर्स कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, ठोस नीति बनाकर रेगुलर करने की तैयारी में सरकार, पढ़े पूरी खबर..       मुख्यमंत्री ने काजा में नौवीं राष्ट्रीय महिला आईस हॉकी चैंपियनशिप का शुभारंभ किया       कोरोना अपडेट : हिमाचल में 71 पुलिस जवान, मंत्री, BJP अध्यक्ष समेत 1975 कोरोना पॉजिटिव, पढ़े पूरी खबर..       भाजपा ने चलाया डिजीटल फंड कलेक्शन अभियान, नमो एप के जरिए देश भर मे माइक्रो फंड किया जा रहा एकत्र..       16 जनवरी को होगा 9 वीं राष्ट्रीय महिला आईस हॉकी चैंपियनशिप 2022 का शुभारंभ, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर करेंगे बतौर मुख्यातिथि शिरकत, पढ़े पूरी खबर..      

धर्म/संस्कृति | शिमला

शिमला की ऊंची पहाड़ी पर है माँ तारा देवी मन्दिर, यहाँ आने वाले की हर मनोकामना होती है पूरी, जाने तारा देवी मंदिर का इतिहास -

January 12, 2022 10:37 PM

शिमला की ऊंची पहाड़ी पर है माँ तारा देवी का मन्दिर, यहाँ आने वाले श्रद्धालुओं की हर मनोकामना होती है पूरी, जाने तारा देवी मंदिर का इतिहास -

शिमला: (हिमदर्शन समाचार); मां तारा देवी मंदिर शिमला शहर के एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है, जो शिमला शहर के सबसे पवित्र मंदिरों में से एक है। इस मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं की हर एक मनोकामना को मां तारा देवी पूरा करतीं हैं, जिसकी वजह से यहां आने वाले सभी श्रद्धालुओं का अटूट आस्था और विश्वास जुड़ा हुआ है। शिमला शहर से करीब 11 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

हर साल यहां लाखों लोग मां का आर्शीवाद लेने पहुंचते हैं। कहा जाता है कि करीब 250 साल पहले मां तारा को पश्चिम बंगाल से शिमला लाया गया था। सेन काल का एक शासक मां तारा की मूर्ति बंगाल से शिमला लाया था।

जहां तक मंदिर बनाने की बात है तो राजा भूपेंद्र सेन ने मां का मंदिर बनवाया था। ऐसा माना जाता है कि एक बार भूपेंद्र सेन तारादेवी के घने जंगलों में शिकार खेलने गए थे। इसी दौरान उन्हें मां तारा और भगवान हनुमान के दर्शन हुए। मां तारा ने इच्छा जताई कि वह इस स्थल में बसना चाहती हैं ताकि भक्त यहां आकर आसानी से उनके दर्शन कर सके। इसके बाद राजा ने यहां मंदिर बनवाना शुरू किया।

राजा ने अपनी जमीन का एक बड़ा हिस्सा मंदिर बनवाने के लिए दान कर दिया। कुछ समय बाद मंदिर का काम पूरा हो गया और लकड़ी की बनी मां की मूर्त यहां स्थापित कर दी गई। इसके बाद शासक हुए बलबीर सेन को भी मां ने दर्शन दिए जिसके बाद सेन ने अष्टधातु की मूर्त यहां स्थापित की और मंदिर का निर्माण किया। वर्तमान में माँ तारा देवी का मन्दिर जिला प्रशासन की देखरेख में है। पूर्व सरकार के कार्यकाल में शिमला के तारा देवी मंदिर का जीर्णोद्धार कर नए साचे में ढाला गया है।

चोटी पर बने इस मंदिर के एक ओर घने जंगल है जबकि दूसरी ओर सड़कें। यह मंदिर अब बस सेवा से भी जुड़ गया है। कुछ भक्तजन आज भी जंगल के संकीर्ण रास्ते के माध्यम से मंदिर तक पहुंचते हैं जो पहाड़ी के शानदार प्राकृतिक सुंदरता और आराध्य दृश्य से भरा है।

शिमला से मां तारा देवी मंदिर कैसे पहुंचे ?

अगर आप अपनी खुद की बाइक या कार से मां तारा देवी मंदिर जाना चाहते हैं, तो आप आसानी से मंदिर तक पहुंच सकते हैं। शिमला से मां तारा देवी मंदिर तक जाने के लिए एचआरटीसी (HRTC) की रेगुलर बसें चलती है और साथ ही बहुत सारी टैक्सियां भी चलती है, जिससे आप आसानी से मां तारा देवी मंदिर तक पहुंच सकते हैं।

शिमला को कालका के साथ एक संकीर्ण गेज लाइन से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है जो भारत के प्रमुख शहरों से जुड़ता है। शिमला पहुंचने के लिए कई ट्रेन मार्ग उपलब्ध हैं।

Have something to say? Post your comment

धर्म/संस्कृति में और

यहां मां की एक झलक से दूर होती है हर दुःख-तकलीफ, जानिए मां ब्रजेश्वरी मंदिर की अद्भुत कथा और इतिहास

"शिकारी देवी" हिमाचल में एक अनोखा मंद‍िर: जहां न ट‍िक पाती है छत, न ऊपर से उड़ पाते पंछी , जानिए माँ शिकारी देवी का इतिहास..

भगवान शनि देव है न्याय और कर्मों का देवता : जानिए शनिवार व्रत कथा : इन्होंने किया था पहली बार शनिवार का व्रत, ऐसी है शनिदेव की महिमा

माँ वैष्णो देवी : जानें क्या है माता वैष्णो देवी की कथा, कैसे मां का भवन बना लाखों भक्तों की उम्मीद

जय शनिमहाराज : शनि के प्रकोप से बचने के लिए बेहद खास है 25 दिसंबर का दिन, इस उपाय से जीवन में आ सकती है खुशहाली..

शिमला काली बाड़ी मंदिर में विराजमान हैं देवी श्यामला, इन्हीं के नाम पर हुआ शिमला का नामकरण

हिमाचल: "छोटी काशी" में व्यास नदी के तट पर है ऐतिहासिक पंचवक्त्र महादेव मंदिर, स्थापित है पंचमुखी प्रतिमा

माँ ज्वाला देवी जी का अद्भुत रहस्य, यहाँ बिना तेल-बाती के जलती हैं अखंड ज्योतियां, अकबर हुआ था नतमस्तक, जानिए माता ज्वाला की 9 ज्योतियों से जुड़ा राज़

विख्यात स्थान ज्वाला जी मे बिना तेल-बाती के जलती हैं अखंड ज्योतियां, अकबर हुआ था नतमस्तक, जानिए माता ज्वाला की 9 ज्योतियों से जुड़ा राज़

गुरु नानक जयंती आज, जानिए उनके जीवन संदेश, जो दिखाते हैं जीवन जीने की सही राह..