कोरोना वायरस: जिला सोलन में आए 4 कोरोना पॉजिटिव मामले, आंकड़ा 317 पर पहुंचा       रविवार का पंचांग: 31 मई 2020; जानिए आज का शुभ मुहूर्त का समय       रविवार का राशिफ़ल: 31 मई 2020; जानिये कैसा रहेगा आपका दिन       Good News : हिमाचल में एक दिन में रिकॉर्ड तोड़ 28 कोरोना मरीज हुए ठीक, कोरोना की उल्टी गिनती शुरू, पढ़े पूरी खबर..       हिमाचल प्रदेश में 15 जून तक सभी शिक्षण संस्थान रहेंगे बंद, छुट्टियां घोषित, पढ़े विस्तार से       मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को एनडीए सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूर्ण होने पर बधाई दी       हिमाचल प्रदेश के नए DGP संजय कुंडू ने संभाला पदभार       पीपीई किट घोटाले मामले में अजय गुप्ता को मिली ज़मानत, विजिलेंस पेश नही कर पाई गुप्ता के ख़िलाफ़ पुख्ता सबूत, पढें विस्तार से       कोरोना वायरस: सोलन में 1 और कांगड़ा में आए 4 और कोरोना पॉजिटिव सामने, पढ़े विस्तार से -       हिमाचल प्रदेश: CM जय राम ठाकुर ने पत्रकारों को दी हिन्दी पत्रकारिता दिवस" की शुभकामनाएं...      

पंचांग

आज का पंचांग: 10 अक्टूबर 2019; जानिए आज का शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

October 10, 2019 07:13 AM

हिन्दू पंचांग पाँच अंगो के मिलने से बनता है, ये पाँच अंग इस प्रकार हैं :- 1:- तिथि (Tithi) 2:- वार (Day) 3:- नक्षत्र (Nakshatra) 4:- योग (Yog) 5:- करण (Karan)

पंचांग का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है इसीलिए भगवान श्रीराम भी पंचांग (panchang) का श्रवण करते थे ।

जानिए गुरुवार का पंचांग

*शास्त्रों के अनुसार तिथि के पठन और श्रवण से माँ लक्ष्मी की कृपा मिलती है । *वार के पठन और श्रवण से आयु में वृद्धि होती है। * नक्षत्र के पठन और श्रवण से पापो का नाश होता है। * योग के पठन और श्रवण से प्रियजनों का प्रेम मिलता है। उनसे वियोग नहीं होता है । *करण के पठन श्रवण से सभी तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।

इसलिए हर मनुष्य को जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए नित्य पंचांग को देखना, पढ़ना चाहिए ।

गुरुवार का पंचांग 10 अक्टूबर , 2019

विष्णु रूपं पूजन मंत्र :

शांता कारम भुजङ्ग शयनम पद्म नाभं सुरेशम।विश्वाधारं गगनसद्र्श्यं मेघवर्णम शुभांगम। लक्ष्मी कान्तं कमल नयनम योगिभिर्ध्यान नग्म्य्म ।वन्दे विष्णुम भवभयहरं सर्व लोकैकनाथम।।

।। आज का दिन मंगलमय हो ।।

दिन (वार) - गुरुवार के दिन तेल का मर्दन करने से धनहानि होती है । (मुहूर्तगणपति)

गुरुवार के दिन धोबी को वस्त्र धुलने या प्रेस करने नहीं देना चाहिए । गुरुवार को ना तो सर धोना चाहिए, ना शरीर में साबुन लगा कर नहाना चाहिए और ना ही कपडे धोने चाहिए ऐसा करने से घर से लक्ष्मी रुष्ट होकर चली जाती है ।

*विक्रम संवत् 2076 संवत्सर कीलक तदुपरि सौम्य *शक संवत - 1941 *अयन - उत्तरायण *ऋतु - ग्रीष्म ऋतु *मास - आश्विन माह *पक्ष - शुक्ल पक्ष

तिथि (Tithi)- द्वादशी - 19:52 तक तदुपरांत त्रयोदशी

तिथि का स्वामी - द्वादशी तिथि के स्वामी विष्णु जी है तदुपरांत त्रयोदशी तिथि के स्वामी कामदेव जी है। द्वादशी तिथि के स्वामी श्री हरि विष्णु जी हैं। द्वादशी को इनकी पूजा , अर्चना करने से मनुष्य को समस्त सुख और ऐश्वर्यों की प्राप्ति होती है, उसे समाज में सर्वत्र आदर मिलता है। इस दिन विष्णु सहस्रनाम का पाठ करना अत्यन्त श्रेयकर होता है। द्वादशी के दिन तुलसी तोड़ना निषिद्ध है। द्वादशी के दिन यात्रा नहीं करनी चाहिए, इस दिन यात्रा करने से धन हानि एवं असफलता की सम्भावना रहती है। द्वादशी के दिन मसूर का सेवन वर्जित है।

नक्षत्र (Nakshatra)- शतभिषा - 11 अक्टूबर 02:15 तक तदुपरांत पूर्व भाद्रपद

नक्षत्र के देवता, ग्रह स्वामी- शतभिषा नक्षत्र के देवता मित्र है एवं पूर्व भाद्रपद नक्षत्र के देवता इन्द्र है ।

योग - गण्ड - 11 अक्टूबर 02:40+ तक वृद्धि

प्रथम करण : - बव - 06:35 तक द्वितीय करण : - बालव - 19:52 तक गुलिक काल : - बृहस्पतिवार को शुभ गुलिक दिन 9:00 से 10:30 तक ।

दिशाशूल:- बृहस्पतिवार को दक्षिण दिशा एवं अग्निकोण का दिकशूल होता है । यात्रा, कार्यों में सफलता के लिए घर से सरसो के दाने या जीरा खाकर जाएँ ।

राहुकाल : दिन 1:30 से 3:00 तकसूर्योदय - प्रातः 06:20 सूर्यास्त - सायं 17:56

विशेष - द्वादशी को पोई का सेवन नहीं करना चाहिए ।

मुहूर्त (Muhurt) - द्वादशी तिथि यात्रादि को छोड़कर सभी धार्मिक शुभ कार्य किये जा सकते हैं।

"हे आज की तिथि (तिथि के स्वामी ), आज के वार, आज के नक्षत्र ( नक्षत्र के देवता और नक्षत्र के ग्रह स्वामी ), आज के योग और आज के करण, आप इस पंचांग को सुनने और पढ़ने वाले जातक पर अपनी कृपा बनाए रखे, इनको जीवन के समस्त क्षेत्रो में सदैव हीं श्रेष्ठ सफलता प्राप्त हो "।

आप का आज का दिन अत्यंत मंगल दायक हो ।

Have something to say? Post your comment