हिंदी ENGLISH E-Paper Download App Contact us Thursday | January 21, 2021
मुख्यमंत्री ने हिमाचल के पहले आनलाइन यूथ रेडियो स्टेशन का शुभारम्भ किया       विधायकों से परामर्श के बाद डीपीआर को अंतिम रूप दें अधिकारीः मुख्यमंत्री       पंचायती राज चुनावों के द्वितीय चरण में भाजपा के 807 प्रधान और 830 उपप्रधान विजयी : कश्यप       ऐतिहासिक रिज मैदान पर भव्य तरीके से मनाया जाएगा स्वर्ण जयंती समारोह, अमित शाह और जगत प्रकाश नड्डा होंगे शामिल       नेस्ले इंडिया लिमिटेड ने प्रदेश को आक्सीमीटर व मास्क भेंट किए       हि.प्र टैक्स बार एसोसिएशन शिमला के प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री से भेंट की       मुख्यमंत्री ने प्रदेश में हेलीपोर्ट निर्माण कार्यों में गति लाने के दिए निर्देश       पंचायत चुनावों के प्रथम चरण के नतीजे आने के बाद कांग्रेस बीजेपी में लगी जीत के दावों की होड़, बीजेपी ने 73 फीसदी सीटें जितने का दावा, कांग्रेस ने बताया झूठ का पुलिन्दा       27 जनवरी को होगी ग्राम पंचायतों की पहली बैठक, इस दिन होगी प्रधान व वार्ड पंचों की शपथ       लोगों को सड़क सुरक्षा व यातायात नियमों को लेकर शिक्षित करना आवश्यकः मुख्यमंत्री      

हिमाचल

मनुष्य के तीन शरीर ! जानिए कैसे ?

June 27, 2019 12:50 PM

शिमला:  आप सोच रहे होंगे मनुष्य के तीन शरीर कैसे हो सकते है लेकिन यही सच है की मनुष्य के तीन शरीर होते है। शुक्ष्म अन्वेषणों से ज्ञात होता हैं की मनुष्यों की सत्ता केवल वही नहीं जो सामने है बल्कि इससे भी परे मनुष्य का अस्तित्व है।

अध्यात्म विज्ञानं के गहन अध्यन से पता चलता है की मनुष्य के तीन शरीर है। एक स्थूल शरीर, दूसरा शूक्ष्म शरीर, जिसमे हमारा मन, बुद्धि आती है। इसका सामर्थ्य भौतिक सरीर से सेंकडो गुना कहीं अधिक है। मनोबल, साहस, आत्मविश्वाश आदि अति सूक्ष्म शरीर की शक्ति है और अंत में तीसरा शरीर है यानि इसमे भाव , संवेदना व करुणा आती है यही इसका सामर्थ्य है जो स्थूल व सूक्ष्म से हजारो गुना सामर्थवान है।

आज की भौतिकवादी जीवनशैली के कारण हम सिर्फ भौतिक शरीर तक ही सिमित रह गए हैं। बस उसी को सवारने के लिए हम हजारो रुपये के कॉस्मेटिक, तेल, पर्फूयम् उड़ा लेते हैं, इससे पर हमारी सोच ही नहीं जाती है कि इससे परे भी तो हमारा अस्तित्व है। शुक्ष्म और कारण शरीर की सेहत का तो हमें ख्याल ही नहीं आता फलस्वरूप मन खिन्न, उदिग्न रहता है। हमारे विचारो में सकारात्मकता नहीं होती है और भावनाएं , विचारधाराएँ गड़बड़ाने के परिणामसवरूप हमारे समाज की सवेदनाए सूख गयी है।

आज दुसरो के प्रति प्रेम, दयाभाव, भातृत्व प्रेम , सेवा, सहायता व निष्काम परोपकार की भावनाएं एकमात्र भी किसी में देखने को नहीं मिलती। आज जरूरत है तो आध्यात्मिक जीवन दृश्टिकोण की , जिसमे भौतिकता के साथ आध्यात्मिकता का समावेश भी हो।

आज जब हम घंटो टीवी पर न्यूज व सीरियल देखने पर जाया कर सकते है तो 10 मिनट हम आँखे बंद करके ध्यान नहीं कर सकते या पांच मिनट हम किसी प्रेरणाप्रद पुस्तक का स्वाध्याय नहीं कर सकते। समग्र जीवन की यही अनिवार्य आवश्यकता है। अतः हमें दैनिक जीवन में ध्यान स्वाध्याय आदि को स्थान देना चाहिए।

Have something to say? Post your comment

हिमाचल में और

मुख्यमंत्री ने हिमाचल के पहले आनलाइन यूथ रेडियो स्टेशन का शुभारम्भ किया

विधायकों से परामर्श के बाद डीपीआर को अंतिम रूप दें अधिकारीः मुख्यमंत्री

पंचायती राज चुनावों में भाजपा की जीत,जगत प्रकाश नड्डा को हिमाचल की जनता का तोहफा : खन्ना

पंचायती राज चुनावों के द्वितीय चरण में भाजपा के 807 प्रधान और 830 उपप्रधान विजयी : कश्यप

ऐतिहासिक रिज मैदान पर भव्य तरीके से मनाया जाएगा स्वर्ण जयंती समारोह, अमित शाह और जगत प्रकाश नड्डा होंगे शामिल

नेस्ले इंडिया लिमिटेड ने प्रदेश को आक्सीमीटर व मास्क भेंट किए

हि.प्र टैक्स बार एसोसिएशन शिमला के प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री से भेंट की

मुख्यमंत्री ने प्रदेश में हेलीपोर्ट निर्माण कार्यों में गति लाने के दिए निर्देश

पंचायत चुनावों के प्रथम चरण के नतीजे आने के बाद कांग्रेस बीजेपी में लगी जीत के दावों की होड़, बीजेपी ने 73 फीसदी सीटें जितने का दावा, कांग्रेस ने बताया झूठ का पुलिन्दा

27 जनवरी को होगी ग्राम पंचायतों की पहली बैठक, इस दिन होगी प्रधान व वार्ड पंचों की शपथ