Coronavirus (COVID-19) : कोरोना से निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकार के प्रयास सराहनीय: वीरभद्र       लोगों से सद्व्यवहार करे पुलिस वाले, मुर्गा बनाना व गालीगलौच है शतप्रतिशत बदतमीजी, पुलिस वालों को डीजीपी ने दी नसीहत, पढ़े विस्तार से       कोरोना वायरस : मकानमालिकों को एक महीने तक किराया नहीं लेने के केंद्र सरकार के आदेश, पढ़ें पूरी खबर       शिमला में आज ये रहेंगे फल- सब्जियों के दाम, तय दामों से अधिक बसूलने वालों के खिलाफ होगी कार्यवाही       आज का पंचांग: 30 मार्च 2020 (सोमवार); जानिए आज का शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय       आज का राशिफ़ल: 30 मार्च 2020; जानिए कैसा रहेगा आपका दिन       हिमाचल के लोग कर्फ्यू/लॉक डाउन का करे पालन, पुलिस को शख्ती के लिए न करे मजबूर - डीजीपी मरडी       लॉकडाउन को ठीक से ना लागू करवाने पर इन बड़े 4 अधिकारियों पर गिरी गाज, सरकार ने किए सस्पेंड, पढ़ें विस्तार से       टांडा अस्पताल में ठीक हुए कोरोना पॉजिटिव को मिली अस्पताल से छुट्टी, पढ़े विस्तार से       शिमला ग्रामीण के विधायक विक्रमादित्य सिंह ने जरुरतमंदों को बांटा राशन      

हिमाचल

मनुष्य के तीन शरीर ! जानिए कैसे ?

June 27, 2019 12:50 PM

शिमला:  आप सोच रहे होंगे मनुष्य के तीन शरीर कैसे हो सकते है लेकिन यही सच है की मनुष्य के तीन शरीर होते है। शुक्ष्म अन्वेषणों से ज्ञात होता हैं की मनुष्यों की सत्ता केवल वही नहीं जो सामने है बल्कि इससे भी परे मनुष्य का अस्तित्व है।

अध्यात्म विज्ञानं के गहन अध्यन से पता चलता है की मनुष्य के तीन शरीर है। एक स्थूल शरीर, दूसरा शूक्ष्म शरीर, जिसमे हमारा मन, बुद्धि आती है। इसका सामर्थ्य भौतिक सरीर से सेंकडो गुना कहीं अधिक है। मनोबल, साहस, आत्मविश्वाश आदि अति सूक्ष्म शरीर की शक्ति है और अंत में तीसरा शरीर है यानि इसमे भाव , संवेदना व करुणा आती है यही इसका सामर्थ्य है जो स्थूल व सूक्ष्म से हजारो गुना सामर्थवान है।

आज की भौतिकवादी जीवनशैली के कारण हम सिर्फ भौतिक शरीर तक ही सिमित रह गए हैं। बस उसी को सवारने के लिए हम हजारो रुपये के कॉस्मेटिक, तेल, पर्फूयम् उड़ा लेते हैं, इससे पर हमारी सोच ही नहीं जाती है कि इससे परे भी तो हमारा अस्तित्व है। शुक्ष्म और कारण शरीर की सेहत का तो हमें ख्याल ही नहीं आता फलस्वरूप मन खिन्न, उदिग्न रहता है। हमारे विचारो में सकारात्मकता नहीं होती है और भावनाएं , विचारधाराएँ गड़बड़ाने के परिणामसवरूप हमारे समाज की सवेदनाए सूख गयी है।

आज दुसरो के प्रति प्रेम, दयाभाव, भातृत्व प्रेम , सेवा, सहायता व निष्काम परोपकार की भावनाएं एकमात्र भी किसी में देखने को नहीं मिलती। आज जरूरत है तो आध्यात्मिक जीवन दृश्टिकोण की , जिसमे भौतिकता के साथ आध्यात्मिकता का समावेश भी हो।

आज जब हम घंटो टीवी पर न्यूज व सीरियल देखने पर जाया कर सकते है तो 10 मिनट हम आँखे बंद करके ध्यान नहीं कर सकते या पांच मिनट हम किसी प्रेरणाप्रद पुस्तक का स्वाध्याय नहीं कर सकते। समग्र जीवन की यही अनिवार्य आवश्यकता है। अतः हमें दैनिक जीवन में ध्यान स्वाध्याय आदि को स्थान देना चाहिए।

Have something to say? Post your comment

हिमाचल में और

Coronavirus (COVID-19) : कोरोना से निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकार के प्रयास सराहनीय: वीरभद्र

लोगों से सद्व्यवहार करे पुलिस वाले, मुर्गा बनाना व गालीगलौच है शतप्रतिशत बदतमीजी, पुलिस वालों को डीजीपी ने दी नसीहत, पढ़े विस्तार से

शिमला में आज ये रहेंगे फल- सब्जियों के दाम, तय दामों से अधिक बसूलने वालों के खिलाफ होगी कार्यवाही

आज का राशिफ़ल: 30 मार्च 2020; जानिए कैसा रहेगा आपका दिन

हिमाचल के लोग कर्फ्यू/लॉक डाउन का करे पालन, पुलिस को शख्ती के लिए न करे मजबूर - डीजीपी मरडी

टांडा अस्पताल में ठीक हुए कोरोना पॉजिटिव को मिली अस्पताल से छुट्टी, पढ़े विस्तार से

शिमला ग्रामीण के विधायक विक्रमादित्य सिंह ने जरुरतमंदों को बांटा राशन

दिल्ली-चंडीगढ़ में फंसे हिमाचलियों के लिए सरकार ने की वैकल्पिक व्यवस्था, पढ़े पूरी खबर

सामाजिक दूरी बनाने के लिए हिमाचल के विचाराधीन कैदियों को मिलगी अस्थाई जमानत

प्रदेश में आज कोरोना वायरस के सभी 17 मामले नेगेटिव पाए गएः मुख्यमंत्री