हाथरस मामले में दलित शोषण मुक्ति मंच ने राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन योगी सरकार की बर्खास्तगी की मांग       शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर कोरोना पॉजिटिव       गुरुवार का पंचांग : 29 अक्तूबर, 2020; ये है आज का शुभमुहूर्त और राहुकाल का समय       आज का राशिफल : इन राशिवालों को रहेगा आज खास दिन, पढ़े अपना राशिफ़ल विस्तार से       शिमला में देर रात होटल में लगी आग, लाखों का नुकसान       प्रदेश में 20 नए औद्योगिक उपक्रम स्थापित करने और कई विस्तार प्रस्तावों को मंजूरी       ऑनलाइन शिक्षा के लिए शिक्षा मंत्री ने किया जिओ टीवी के एलिमेंट्री, हायर और वोकेशनल तीन चैनलों का शुभारम्भ       हिमाचल देवभूमि और वीरभूमि उद्धव ठाकरे का बयान दुर्भाग्यपूर्ण पढ़े हिमाचल का इतिहास : सुरेश कश्यप       इस नम्बर पर वाट्सऐप से करें शिकायत, तुरंत कार्रवाई करेगी शिमला पुलिस, पढ़े पूरी खबर       हिमाचल प्रदेश डाक विभाग करेगा राज्य स्तरीय वर्चुअल फिलेटली प्रदर्शनी का आयोजन, प्रथम स्थान पर आने वाले को मिलेगा ये इनाम      

हिमाचल

मनुष्य के तीन शरीर ! जानिए कैसे ?

June 27, 2019 12:50 PM

शिमला:  आप सोच रहे होंगे मनुष्य के तीन शरीर कैसे हो सकते है लेकिन यही सच है की मनुष्य के तीन शरीर होते है। शुक्ष्म अन्वेषणों से ज्ञात होता हैं की मनुष्यों की सत्ता केवल वही नहीं जो सामने है बल्कि इससे भी परे मनुष्य का अस्तित्व है।

अध्यात्म विज्ञानं के गहन अध्यन से पता चलता है की मनुष्य के तीन शरीर है। एक स्थूल शरीर, दूसरा शूक्ष्म शरीर, जिसमे हमारा मन, बुद्धि आती है। इसका सामर्थ्य भौतिक सरीर से सेंकडो गुना कहीं अधिक है। मनोबल, साहस, आत्मविश्वाश आदि अति सूक्ष्म शरीर की शक्ति है और अंत में तीसरा शरीर है यानि इसमे भाव , संवेदना व करुणा आती है यही इसका सामर्थ्य है जो स्थूल व सूक्ष्म से हजारो गुना सामर्थवान है।

आज की भौतिकवादी जीवनशैली के कारण हम सिर्फ भौतिक शरीर तक ही सिमित रह गए हैं। बस उसी को सवारने के लिए हम हजारो रुपये के कॉस्मेटिक, तेल, पर्फूयम् उड़ा लेते हैं, इससे पर हमारी सोच ही नहीं जाती है कि इससे परे भी तो हमारा अस्तित्व है। शुक्ष्म और कारण शरीर की सेहत का तो हमें ख्याल ही नहीं आता फलस्वरूप मन खिन्न, उदिग्न रहता है। हमारे विचारो में सकारात्मकता नहीं होती है और भावनाएं , विचारधाराएँ गड़बड़ाने के परिणामसवरूप हमारे समाज की सवेदनाए सूख गयी है।

आज दुसरो के प्रति प्रेम, दयाभाव, भातृत्व प्रेम , सेवा, सहायता व निष्काम परोपकार की भावनाएं एकमात्र भी किसी में देखने को नहीं मिलती। आज जरूरत है तो आध्यात्मिक जीवन दृश्टिकोण की , जिसमे भौतिकता के साथ आध्यात्मिकता का समावेश भी हो।

आज जब हम घंटो टीवी पर न्यूज व सीरियल देखने पर जाया कर सकते है तो 10 मिनट हम आँखे बंद करके ध्यान नहीं कर सकते या पांच मिनट हम किसी प्रेरणाप्रद पुस्तक का स्वाध्याय नहीं कर सकते। समग्र जीवन की यही अनिवार्य आवश्यकता है। अतः हमें दैनिक जीवन में ध्यान स्वाध्याय आदि को स्थान देना चाहिए।

Have something to say? Post your comment

हिमाचल में और

राशिफल : 30 अक्टूबर 2020: इन 5 राशि वालों को मिल सकता है शुभ समाचार, पढ़िए अपना आज का राशिफ़ल..

निजी स्कूलों को पूरी फीस वसूलने की छूट देने का सरकार का फैसला शर्मनाक: मंच

हिमाचल में सेवारत बड़ौदा के कर्मचारियों को 3 नवम्बर को विशेष अवकाश

ऊना में बल्क ड्रग पार्क स्थापित करने के लिए सभी सुविधाएं उपलब्धः मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने केशुभाई पटेल के निधन पर शोक व्यक्त किया

मुख्यमंत्री ने सभी फोरलेन परियोजनाओं को तय सीमा में पूरा करने के दिए निर्देश

कांग्रेस ने आइजीएमसी में वितरित किए कोविड उपकरण

हाथरस मामले में दलित शोषण मुक्ति मंच ने राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन योगी सरकार की बर्खास्तगी की मांग

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर कोरोना पॉजिटिव

शिमला में देर रात होटल में लगी आग, लाखों का नुकसान